Home » अनूपपुर-न्यूज़-हिंदी » अनुपपुर- चार वर्षों पश्चात गुमशुदा को मिला परिवार

अनुपपुर- चार वर्षों पश्चात गुमशुदा को मिला परिवार

अनुपपुर- चार वर्षों पश्चात गुमशुदा को मिला परिवार
अनुपपुर- चार वर्षों पश्चात गुमशुदा को मिला परिवारअनुपपुर- चार वर्षों पश्चात गुमशुदा को मिला परिवार

वर्ष 2013 में अनूपपुर रेलवे स्टेशन में लगभग 8 वर्षीय एक गुमशुदा बालक जी.आर.पी को प्राप्त हुआ, जो स्पष्ट बोलने में असमर्थ था। जी.आर.पी द्वारा इस बालक को जिला बाल संरक्षण अधिकारी एवं बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत किया गया। बाल कल्याण समिति ने अपने आदेश के द्वारा बालक को अनूपपुर में स्थित ममता बाल गृह में प्रवेशित कराया। ममता बाल गृह में बालक को शिक्षा प्रदान किए जाने हेतु विद्यालय में प्रवेशित कराया गया एवं स्वास्थ्य देखभाल की गई। बालक अपने अभिभावको का नाम, पता बताने में असमर्थ था परंतु जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी एवं जिला बाल संरक्षण अधिकारी श्रीमती मंजूशा शर्मा के नेतृत्व में समेकित बाल संरक्षण योजना के अंतर्गत पदस्थ कर्मचारियों के द्वारा निरंतर बालक के निवास का पता करने का प्रयास किया जा रहा था, परंतु सफलता प्राप्त नही हो रही थीं।
तत्पश्चात गुमशुदा बालक का आधार कार्ड बनवाने हेतु आधार कार्ड सेंटर ले जाया गया जहां जानकारी प्राप्त हुई की बालक का पूर्व में भी आधार कार्ड बनवाया जा चुका है, किन्तु पूर्व में निर्मित आधार कार्ड की जानकारी प्राप्त नही हो पा रही थीं। उक्त जानकारी महिला सशक्तिकरण विभाग में पदस्थ श्री समीर खान के द्वारा तत्काल जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी एवं जिला बाल संरक्षण अधिकारी जिला अनूपपुर श्रीमती मंजूषा शर्मा को प्रदान की गई। प्राप्त सूचना पर तत्काल कार्यवाही करते हुए जिला बाल संरक्षण अधिकारी ने कलेक्टर श्री अजय शर्मा को सूचना से अवगत कराया। कलेक्टर श्री अजय शर्मा द्वारा भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण से संपर्क कर बालक के संबंध में जानकारी प्राप्त करने का प्रयास किया गया, जिसमें पूर्व में निर्मित आधार कार्ड के आधार पर भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण द्वारा कलेक्टर श्री शर्मा को बालक के पिता का नाम व पता की जानकारी दूरभाष पर प्रदान की गई, जिसके अनुसार ज्ञात हुआ की बालक जिला रायगढ़ छत्तीसगढ़ का निवासी है एवं उनके पिता का नाम श्री कृष्णा निसाद है। प्राप्त पते के अनुसार बालक के परिवार की खोज व पते का सत्यापन करने हेतु पुलिस अधीक्षक श्री सुनील जैन के द्वारा कार्यवाही की गई, जिसके उपरांत बालक के पिता से संपर्क हो सका। 10 जुलाई 2017 को चौकी जूटमील थाना कोतवाली रायगढ़ जिला रायगढ छत्तीसगढ में पदस्थ प्रधान आरक्षक श्री हेमसागर पटेल एवं आरक्षक श्री प्रकाश तिवारी के साथ बालक के पिता अपने गुमशुदा बालक सोनू को लेने जिला बाल संरक्षण अधिकारी श्रीमती मंजूषा शर्मा के समक्ष प्रस्तुत हुए। तदुपरांत बाल कल्याण समिति के आदेश पर बालक को उसके पिता के सुपुर्द कर दिया गया। बालक के मिलने पर बालक के पिता के द्वारा अत्यंत प्रसन्नता व्यक्त की गई, वहीं बालक भी अपने बिछडे़ हुए पिता से मिल कर भावुक हो गया।

Check Also

2 अप्रैल को होगी उत्कृष्ट विद्यालय चयन परीक्षा

2 अप्रैल को होगी उत्कृष्ट विद्यालय चयन परीक्षा

अनुपपुर- लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा आयोजित जिला स्तरीय उत्कृष्ट विद्यालय एवं विकास खण्ड स्तरीय मॉडल …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *